image

जो नहीं मैं हुआ शेष वह
हल सभी प्रश्न को दे दिए
मन्त्र निष्फल, निरर्थक हुए
शब्द के अर्थ मेरे लिए ।

हर पतन ने गगन को छुआ
सांस का विश्व ऐसा बसा
कुछ करूंगा, किया पर नहीं
मोड प्रत्येक पर आ रुदन ही हंसा
वक्त के ठीक इंतजार में
हम ठगे से खडे रह गये  ़

स्वप्न संसार में सृष्टि स्वप्निल, नहीं
मानकर मैं चला सत्य की खोज में
सूर्य की रौशनी में न देखा शहर
दामिनी से ठगा मेघ की मौज में
दृष्टि में, आंख में, देख कर भी जिसे
पास जो, दूर है, मानकर ही जिए….

ब्रह्म सच, विश्व भ्रम
सुन लिया, पर गुना है नहीं
तुम वही, वह यही,
सब कहीं है वही, यह सही
शून्य में पर थी लिखी यह गई जीवनी
पूर्ण विस्मृत कथा, हैं सजे हाशिये !
मन्त्र ़..

दूर धरती नयी, नित्य दुनियां अलग
देखता मैं रहा आपको, शुक्रिया
एक ओझल रहा ही हूं मैं
मृत्यु की एक जीवन-क्रिया
विष, अमृत पिया है किसे यह पता
आप चाहें स्वयं ज्ञात कर लीजिये ।
मन्त्र ़

मैं था, मैं रहूंगा, नहीं इसलिए
हो सका, जोकि हूं
पास काफी नमी के पहूंच
दंश अभिव्यक्ति के बस सहूं
शेष कहने ही की आंच में
उड़ गए सब कथन दूधिए
मन्त्र निष्फल, निरर्थक हुए
शब्द के अर्थ मेरे लिए ।

नाम : प्रभुदयाल मिश्र ‘विश्वात्म’
ईमेल : prabhu.d.mishra@gmail.com
आवासीय पता : 35 Eden Garden, Chunabhatti, Kolar Road, Bhopal 462016
माता का नाम : गौरादेवी
पिता का नाम : श्यामविहारी मिश्र

Advertisements