मेरा भारत आज भी गाँवों में बसता है – जलज कुमार अनुपम

image

कुछ दिन पहले की बात है
कुछ को पैसे कमाने की धुन थी
पास में था सबकुछ फिर भी संतोष मुश्किल था
कुछ पाने की होड़ में शहर की तरफ चला
छोड़ दिया उसमे अपना हँसता खेलता जीवन
कुछ उड़ान लेनी थी उसको करना था कुछ सृजन

image

कुछ दिन ही अभी बीते थे
लिखा उसने मुझे एक ख़त
नौकरी मिल गयी मुझे पर सुकून
अभी भी नहीँ मिलता है
दोपहर कारोबार में कटता है
सर दर्द में शाम गुजरता है

image

लोग यहाँ अपने जैसे ही है
पर अपने नहीं है
देश भी अपना ही है
पर खो सा गया है किसी  गर्त में
नींद ढंग से आती नहीँ किसी को
जीवन उजरा पड़ा है
पैसे जुटाने के शर्त में

image

लोक लाज सब टांग दिए
फैशन में सब मदहोश हैं
बच्चे पार्टी मना रहे हैं
घर में बूढ़े बेहोश हैं

image

अन्दर का काम अब होने लगा बाहर
बाहर का होने लगा अन्दर
चाल और चरित्र का क्या पूछना
हालत देख शर्मा जाये बन्दर
रिश्तों की परिभाषा भी बदली सी है

image

जरुरत के हिसाब से चाचा चाची अंकल और अंटी
जिससे हो काम निकलवाना
बांध दिया भैया और दोस्ती की घंटी
अगर पैसे पास मे हो तो रिश्ते नहीं कीमती है
सारी माया यहाँ पैसो के आगे सिमटी है

image

रिश्ते बढा सकते हो निभा सकते हो
विश्वास न करना बस इतनी सी विनती है
कृष्ण – सुदामा , राम – सुग्रिव ,
कर्ण –दुर्योधन को सब भूल गये
भाई- भाई के रिश्ते यहाँ
बंटवारे में झूल गए

image

सावित्रि –सत्यवान  राम सिता
अब इनको नहीं भाते है
करो गर तुम प्रयास इन्हे समझाने का
ये आधुनिकता का गीत गाते है
जन्मोत्सव के चक्कर मे यहाँ
माँ की दवाइयों का ख्याल नही रहता
पैसे कैसे भी कर लो जमा
यहाँ किसी के आंसू का मलाल नहीं रहता

image

यहाँ ऊँची ऊँची इमारतें  है
पर मुझको वो नही लगता घर
नही फर्क पड़ता किसी को
चाहे तड़प के पड़ोसी जाये मर

image

अजादी के बाद तरक्की कुछ अजब हो गयी
हम निचे से महंगे और ऊपर से खाली हो गये
लानत है एसे धन के संचय पर
गांव वाले को छोड़ दो
यहाँ तो सम्बन्धी भी मवाली हो गये

अब मुझे यहाँ कुछ भी पसंद नही आता है
दिल नही लगता मेरा यहाँ पर
न कुछ भी मुझको भाता है
मेरे रोकने से भी न रुके मेरा मन
अब ये गीत गांव का ही गाता है

मुझे अब ऐसा लगता
मेरा भारत आज भी गाँवो में बसता है
कैसे हो सकता है मेरा देश ऐसा
हर रिश्ता जहां एकदम सस्ता है
हम ॠषि  – मुनियों की संतान
अपनी हर सभ्यता संस्कृति बहुत धनी है
चाहे बात हो लोक – लाज की
या हो मानवता और मनुजता की
मेरा गांव इन सबमे आज भी अग्रणी है
जहाँ किसी के आने पर
अनुभव होता है उल्लास  का

मेहमान पूजे जाते जहाँ
रिश्तों का एहसास  कराता
व्रत और उपवास
कौवों के आवाज़ में अभास होता
किसी के आने के सन्देश का

हर मौसम हर बेला मे
एक नूतन समावेश का
अपनी गलती के लिये
जहाँ भगवान को नहीं कोई कोसता है
मुझे अब ऐसा लगता
मेरा भारत आज भी गाँवो में बसता है
वहाँ घर का मालिक पैसे कमाने से तय नहीं होता

बड़ों की आँखों में छोटो का भय नहीँ होता
प्रतिष्ठा के लिये चढ़ जाते हँसते-हँसते सूली पर
चन्द रुपयों के खातिर जहाँ ईमान का क्षय नहीँ होता
जहाँ समृद्ध बनने के लिये मेहनत ही एक मात्र रास्ता है
मुझे अब ऐसा लगता मेरा भारत आज भी गाँवो में बसता है

image

जहाँ भोर का एहसास
चिड़ियों की चहचहाहट कराती है
मुर्गे की तान जहाँ  नित्य हमें जगाती है
सूरज चाँद तारे जहाँ सब अपने से लगते है
फुलवारी में आज भी जहाँ पर किसी की चाह मे बंशी बजते है
जहाँ देख हर्षित दूसरे को मन अपना भी  मुस्कुराता है
मुझे अब ऐसा लगता मेरा भारत आज भी गाँवो में बस्ता है

जलज कुमार अनुपम

पिता का नाम : पं शर्मा नन्द मिश्र
माता का नाम :  स्वर्गीय गायत्री मिश्र
आवास : बेतिया पश्चिमी, चंपारण बिहार -८४५४३८,भारत
शिक्षा : बी .टेक (इलेक्ट्रॉनिक्स), एम .यू.ए.स.ई .ई(ऑस्ट्रेलिया)

पेशा : प्रबंधक (टेक्नीकल),राइज  एलेवेटर्स, नईदिल्ली, भारत
पुरस्कार : चन्द्रेशेखर आज़ाद अवार्ड -२०१५ (समाजिककार्यो हेतु)
प्रकाशित रचनायें: बाल कथा (२००९),कवितायें

©लिटरेचर इन इंडिया समूह

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s