माथे लगी बेंदी, हाथों में लगी मेंहदी – हिन्दी लोकगीत

माथे लगी बेंदी, हाथों में लगी मेंहदी-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली
मेरी सासू के अरमान पूरे हुए, और
चरुवे की घड़ी में लालन हुए
मेरी प्यारी सासू को कंगन चाहिए-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली.

माथे लगी बेंदी, हाथों में लगी मेंहदी-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली
मेरी जिठनी के अरमान पूरे हुए, और
पिपरी की घड़ी में लालन हुए
मेरी प्यारी जिठनी को हरवा चाहिए-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली.

माथे लगी बेंदी, हाथों में लगी मेंहदी-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली
मेरी ननदी के अरमान पूरे हुए, और
छठी की घड़ी में लालन हुए
मेरी प्यारी ननदी को झाला चाहिए-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली.

माथे लगी बेंदी, हाथों में लगी मेंहदी-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली
मेरे देवर के अरमान पूरे हुए, और
वंशी की घड़ी में लालन हुए
मेरी प्यारे देवर को घड़ियाँ चाहिए-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली.

माथे लगी बेंदी, हाथों में लगी मेंहदी-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली
मेरी सखियों के अरमान पूरे हुए, और
मंगल की घड़ी में लालन हुए
मेरी प्यारी सखियों को लड्डू चाहिए-२
प्यारी सी जच्चा सजन संग चली.

Advertisements

माथे लगी बेंदी, हाथों में लगी मेंहदी – हिन्दी लोकगीत&rdquo पर एक विचार;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s