बूँद-बूँद पानी – आशीष जोग

श्रावण की कृष्ण-वर्णी,
पलकों में, अलकों में,
छलक-छलक जाता है,
बूँद-बूँद पानी!
तूलिका के मृदुस्पर्शी,
रेशों में, केशों में,
झलक-झलक जाती है,
अनकही कहानी!
मरुथल की अनबुझी,
तृष्णा- वितृष्णा की,
तुष्टि-संतुष्टि का,
समाधान पानी!
सृष्टि के, समष्टि के,
मूल पंच तत्वों का,
प्राणधन चंचल मन,
कितना अभिमानी!
श्रावण की कृष्ण-वर्णी,
पलकों में, अलकों में,
छलक-छलक जाता है,
बूँद-बूँद पानी!

image

Advertisements
श्रेणी कविता

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

ई-मेल adteam@literatureinindia.com घंटे M-F : 10:00 am - 05:00 pm, Weekends : 10:00 am - 12:00 am
%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close