sadhvi-pragya-thakur

नई दिल्ली: मालेगांव ब्लास्ट मामले की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जमानत पर रिहा होने के बाद गुरुवार को मीडिया के सामने आईं. साध्वी प्रज्ञा ने खुद को सौ फीसदी निर्दोष बताते हुए कहा, कांग्रेस सरकार ने षड्यंत्र के तहत उन्हें फंसाया. ‘भगवा आतंकवाद का पूरा स्क्रिप्ट देख लीजिए. इन्होंने कहानी बनाकर सिद्ध करने की कोशिश. लेकिन सिद्ध हो चुका है कि भगवा आतंकवाद नहीं होता. साथ ही उन्होंने कहा, निचली अदालत से सजा होना अपराधी होने का परिचायक नहीं है. साध्वी ने खराब सेहत के लिए एटीएस मुंबई की प्रताड़ना को जिम्मेदार बताया. जमानत के लिए हाई कोर्ट को धन्यवाद कहते हुए उन्होंने कहा कि अभी जो सरकार केंद्र में है वह षड्यंत्र नहीं करती और न्याय दिलाती है.

भगवा आतंकवाद शब्द प्रयोग के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम का नाम लेते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा, ‘जो विधर्मी होते हैं उनके लिए तो भगवा बुरा ही है. यह तो निश्चित है कि भगवा आतंकवाद कांग्रेस का षड्यंत्र था. इसे साबित करने के लिए कहानी रची गई. एनआईए तो अभी भी वही है. कोई भी एजेंसी सीधी होती है. एजेंसी जांच करती है और जो भी परिणाम लाते हैं वे आपके सामने हैं.’ उन्होंने कहा, ‘यूपीए सरकार के षड्यंत्र रूपी काले सागर और अन्याय सहकर मैं 9 साल बाद जेल के बंधन से आधी मुक्त हुई हूं. अभी मेरा केस मुंबई हाई कोर्ट में चलेगा. मैं अभी मानसिक रूप से बंधन में रहूंगी. मैं कोर्ट को धन्यवाद करती हूं कि इतने वर्षों में सही, लेकिन न्याय के लिए सुना और मुझे इलाज का अवसर दिया.’ उन्होंने मीडिया को भी धन्यवाद देते हुए कहा कि शुरू में तो उन्हें आतंकवादी तक कह दिया गया, लेकिन भगवा आतंकवाद शब्द मीडिया को पसंद नहीं आया.

मुंबई एटीएस पर आरोप लगाते हुए साध्वी ने कहा कि उन्हें गैर कानूनी तरीके से गिरफ्तार कर सूरत से मुंबई ले जाया गया और 13 दिनों तक प्रताड़ना दी गई. कैंसर से पीड़ित प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, ‘मैं उस समय पूरी तरह फिट थी, लेकिन आज पराश्रित हूं. इसके लिए एटीएस मुंबई की प्रताड़ना जिम्मेदार है. एटीएस की प्रताड़ना से मेरे फेफड़े की झिल्ली फट गई. मुझे मानसिक और शारिरिक रूप से प्रताड़ित किया गया. लेकिन आत्मिक रूप से मैं नहीं टूटी. मुझे जितना प्रताड़ित किया गया उतना तो परतंत्र भारत में भी किसी महिला को प्रताड़ित नहीं किया गया होगा.’ उन्होंने इसके लिए तत्कालीन एटीएस प्रमुख और मुंबई हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे का भी नाम लिया. गौरतलब है कि 29 सितंबर 2008 को मालेगांव में एक बाइक में बम लगाकर विस्फोट किया गया था, जिसमें आठ लोगों की मौत हुई थी और तकरीबन 80 लोग जख्मी हो गए थे. इस मामले में साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित को 2008 में ही गिरफ्तार किया गया था.

ज़ी न्यूज़ डेस्क

Advertisements