बीएचयू में हॉस्टल के लिए चक्कर काट रहीं दो दर्जन छात्राएं

बीएचयू (BHU) में हॉस्टल न मिल पाने की वजह से छात्राएं परेशान हैं।

Image result for bhu girls hostel
ऐसी दो दर्जन से ज्यादा छात्राएं हैं, जो विभागों से संकाय तक के चक्कर लगा रही हैं। परेशान छात्राओं ने संकायाध्यक्ष को पत्र लिखकर छात्रावास में कमरे आवंटित कराने की गुहार लगाई है। उधर, संकायाध्यक्ष ने इस मामले के निस्तारण के लिए चीफ प्राक्टर प्रो. रोयाना सिंह से बात कर छात्राओं की सूची सौंपी है।

बीएचयू परिसर (BHU Campus) में छात्राओं के सभी हॉस्टल (BHU Girl’s Hostel) आवंटित हो चुके हैं। सूत्रों की माने तो कुछ छात्रावासों में दो-चार कमरे खाली हैं, जो विशेषाधिकार के तहत आवंटित किए जाते हैं। वहीं, छात्रावास के लिए जो छात्राएं परेशान हैं, उनमें 50 फीसदी छात्राएं समाज विज्ञान संकाय की है।

इन छात्राओं ने समाज विज्ञान संकायाध्यक्ष को पत्र लिखकर कमरा दिलाने की मांग की है। छात्राओं के पत्र के आधार पर संकाय की ओर से चीफ प्राक्टर कार्यालय को सूची भेजी गई है।

अब त्रिवेणी, महिला महाविद्यालय सहित छात्रावासों में खाली कमरों की सूची तैयार कराई जा रही है। इसके बाद अधिकारियों की अनुमति से छात्राओं को कमरे आवंटित किए जा सकते हैं।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

Advertisements

बीएचयू में हॉस्टल के लिए चक्कर काट रहीं दो दर्जन छात्राएं&rdquo पर एक विचार;

  1. व्यंग रचना आमंत्रण

    मित्रों व्यंग की प्रतिष्ठित मासिक पत्रिका अट्टहास के संपादक वरिष्ठ
    रचनाधर्मी Anup Srivastava जी लखनऊ ने जवाबदारी सौंपी है कि अट्टहास के 1 अंक
    में मूलतः अहिंदी भाषी राज्यों जैसे पंजाब महाराष्ट्र हरियाणा जम्मू कश्मीर
    दक्षिण के प्रांतों गुजरात बंगाल में सक्रिय या कभी जभी भी लिखते रहे हिंदी
    व्यंग्यकारों के रंगों को समेटा जाए ।
    आप सबका सहयोग वांछित है मुझे इन क्षेत्रों में सक्रिय व्यंग कारों के संपर्क
    दीजिए
    हिंदी भाषी राज्यो के सिवा अन्य क्षेत्रों के व्यंग रचना धर्मियो से मेरे
    सम्पादन में निकलने वाले अट्टहास के विशेषांक हेतु रचनाएं सादर आमंत्रित हैं ।
    vivekranjan.vinamra@gmail.com

    पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.