आज़मगढ़ में पूर्व विधायक ने किया 50 एकड़ सरकारी ज़मीन पर कब्ज़ा, जिलाधिकारी ने दिए जांच के निर्देश

एक पूर्व विधायक द्वारा अपने ही गांव में लगभग 50 एकड़ सरकारी भूमि पर अवैध रूप से कब्ज़ा कर लिया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार विधायक आज़मगढ़ जिले के फूलपुर तहसील के निवासी हैं| इस मामले की ख़बर जैसे ही जिलाधिकारी को हुई, प्रशासन में हड़कंप मच गया|आनन-फानन में जिलाधिकारी ने सम्बंधित अभिलेखों को तलब किया है| जिलाधिकारी ने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है और जांच ख़त्म होते ही आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

Azamgarh News - Illegal encroachment on government land by ex MLA
आज़मगढ़: एक पूर्व विधायक द्वारा अपने ही गांव में लगभग 50 एकड़ सरकारी भूमि पर अवैध रूप से कब्ज़ा कर लिया गया है। | स्रोत : गूगल

मामले की शिकायत के बाद जिलाधिकारी चन्द्रभूषण सिंह ने मामले की जांच बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी श्रीप्रकाश राय को सौंप दी है।

अधिकारी द्वारा जांच के दौरान यह पता चला कि उक्त जमीन पर पूर्व विधायक का नाम अभिलेखों में कहीं दर्ज ही नहीं है। उक्त भूमि उसी गांव के नदी और झाड़ी के खाते में दर्ज है। इस संबंध में आज़मगढ़ जिलाधिकारी को भी रिपोर्ट दे दी गयी है। जिलाधिकारी ने एसओसी को फूलपुर तहसील से अभिलेख मंगाकर उसकी जांच करने का निर्देश दिए है। साथ ही साथ जमीन सरकारी होने पर फर्जी इंद्राज को निरस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि एक बार फूलपुर के अभिलेखों की जांच पूरी हो जाये, उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.