Sankalp Poem- Mukesh Negi

संकल्प – मुकेश नेगी

कर पूर्ण उन्हें संकल्प जो तेरा

तेरे पग न रुके हो घोर अंधेरा

अब दरी नही मंज़िल है सामने

ख़त्म हुआ अब वक्त़ ये तेरा।

Sankalp Poem- Mukesh Negi

इन राहों में हजार हो उलझन

साँस थमे तेरी तेज हो धड़कन

न घबराना देख इन्हें तू

अभी है आगे और भी दलदल।

 

रुकने न दे अपने ये कदम

लगाले जितना तुझमें है दम

कर साकार वो सपना जिसमें

भले ही वक्त़ है थोड़ा कम।

 

मेहनत से ये दिल न चुरा

हिम्मत अपनी देख जरा

घुटने टेक न मुश्किल में

खुद में एक विश्ववास जगा।

 

कर दिन-रात ये एक सभी

पूरी कर रह गई जो कमी

न कम है किसी और से तू

तेरे सामने होंगे फीके सभी।

 

साबित कर दुनिया को दिखा

अपने दिल से डर को भगा

सोच ये मत करना है तुझे

सपने को सच करके दिखा।

 

मन मे एक विश्ववास तू रख

नजरों से सब देख परख

नफ़रत से कई देख तुझे

पर मंज़िल मे ध्यान तू रख।

 

संकल्प हो तेरा सबसे महान

विश्व मे गूंजे तेरा नाम

देखके तुझको जग भी सीखे

करे तुझे शत-शत प्रणाम।

Mukesh Negi| TihriFarm| Dehradun

मुकेश नेगी

टिहरीफार्म, रायवाला, देहरादून

गर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: 

editor_team@literatureinindia.com

समाचार: 

news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: 

adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.