कार्य का बोध कराने वाले शब्द को क्रिया कहते हैं।

उदाहरण –

आना, जाना,नाचना,खाना,घूमना,सोचना,देना,लेना,समझना,करना,करना,बजाना,झपटना,पढना,उठाना,सुनाना,लगाना,दिखाना,पीना,होना,धोना,जागना,बतियाना,फटकारा, हथियाने, लगाना, पढ़ना, लिखना, रोना, हंसना, गाना आदि।

क्रियाएं दो प्रकार की होतीं हैं-

  • १-सकर्मक क्रिया,
  • २-अकर्मक क्रिया।

सकर्मक क्रिया: जिस क्रिया में कोई कर्म (ऑब्जेक्ट) होता है उसे सकर्मक क्रिया कहते हैं। उदाहरण – खाना, पीना, लिखना आदि।

बन्दर केला खाता है। इस वाक्य में ‘क्या’ का उत्तर ‘केला’ है।

अकर्मक क्रिया: इसमें कोई कर्म नहीं होता। उदाहरण – हंसना, रोना आदि। बच्चा रोता है। इस वाक्य में ‘क्या’ का उत्तर उपलब्ध नहीं है।

क्रिया का लिंग एवं काल:

क्रिया का लिंग कर्ता के लिंग के अनुसार होता है। उदाहरण – रोना : लड़का रोता है। लड़की रोती है। लड़का रोता था। लड़की रोती थी। लड़का रोएगा। लडकी रोएगी।

मुख्य क्रिया के साथ आकर काम के होने या किए जाने का बोध कराने वाली क्रियाएं सहायक क्रियाएं कहलाती हैं। जैसे – है, था, गा, होंगे आदि शब्द सहायक क्रियाएँ हैं।

सहायक क्रिया के प्रयोग से वाक्य का अर्थ और अधिक स्पष्ट हो जाता है। इससे वाक्य के काल का तथा कार्य के जारी होने, पूर्ण हो चुकने अथवा आरंभ न होने कि स्थिति का भी पता चलता है। उदाहरण – कुत्ता भौंक रहा है। (वर्तमान काल जारी)। कुत्ता भौंक चुका होगा। (भविष्य काल पूर्ण)।