अलगाव के बहुत अहसास है
धर्म की आड़ है
पंथों के दर्शन है
मान्यताओं के भेद है
वादों के सिद्धांत हैं

India Independence Day

अलगाव के बहुत अहसास है
उम्र के बंधन है
रिश्तो के नाम है
साधनों के जश्न हैं
अभावों के दर्द हैं
अलगाव के बहुत अहसास है

आस पाने की है
डर खोने का है
हकों की मांग है
हितों का सवाल है
अलगाव के बहुत अहसास है

अज्ञान का अंधेरा है
ज्ञान का प्रकाश है
विचारों का अंतर है
विश्वासों का प्रश्न है
अलगाव के बहुत हैं अहसास

भाषा की दूरी है
नस्ल की मजबूरी है
परंपरा की कहानियाँ
अतीत की दुहाई है
अलगाव के बहुत  अहसास है

जाने है अनजाने है
दोस्तों की बात है
गुरू का कहना है
रहना इनके ही साथ है
बहाने अलगाव के
बहुत सारे है
आओ
अलगाव के अहसासो
के साथ
सीखें जीना
मिलकर रहेगें
स्वतंत्र रहेंगे
हम भी दूसरे भी रहे
स्वतंत्र ऐसा
करे संकल्प
आओ
मिलकर करे
तिरंगे को नमन


अजय वर्मा
ई-101/9
शिवाजी नगर
भोपाल 462016

 

गर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: 

editor_team@literatureinindia.com

समाचार: 

news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: 

adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें