८ कारक होते हैं।

कर्ता, कर्म, करण, सम्प्रदान, अपादान, संबन्ध, अधिकरण, संबोधन।

किसी भी वाक्य के सभी शब्दों को इन्हीं ८ कारकों में वर्गीकृत किया जा सकता है। उदाहरण- राम ने अमरूद खाया। यहाँ ‘राम’ कर्ता है, ‘खाना’ कर्म है।

दो वस्तुओं के मध्य संबन्ध बताने वाले शब्द को संबन्धकारक कहते हैं। उदाहरण –

‘यह मोहन की पुस्तक है।’ यहाँ “की” शब्द “मोहन” और “पुस्तक” में संबन्ध बताता है इसलिए यह संबन्धकारक है।