प्रयोग के आधार पर शब्द के निम्नलिखित दो भेद होते है-

1.विकारी शब्द

2.अविकारी शब्द

1-विकारी शब्द के चार भेद होते है

1. संज्ञा

2. सर्वनाम

3. विशेषण

4. क्रिया

अविकारी शब्द के चार भेद होते है

1. क्रिया-विशेषण

2. संबंधबोधक

3. समुच्चयबोधक

4. विस्मयादिबोधक

इन उपर्युक्त आठ प्रकार के शब्दों को भी विकार की दृष्टि से दो भागों में बाँटा जा सकता है-

  1. विकारी
  2. अविकारी

1. विकारी शब्द : जिन शब्दों का रूप-परिवर्तन होता रहता है वे विकारी शब्द कहलाते हैं। जैसे-कुत्ता, कुत्ते, कुत्तों, मैं मुझे, हमें अच्छा, अच्छे खाता है, खाती है, खाते हैं। इनमें संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया विकारी शब्द हैं।

2. अविकारी शब्द : जिन शब्दों के रूप में कभी कोई परिवर्तन नहीं होता है वे अविकारी शब्द कहलाते हैं। जैसे-यहाँ, किन्तु, नित्य और, हे अरे आदि। इनमें क्रिया-विशेषण, संबंधबोधक, समुच्चयबोधक और विस्मयादिबोधक आदि हैं।