गत दिनों नोएडा में चुनाव मतदान के दौरान जब बूथ पर तैनात उत्तरप्रदेश पुलिस के जवानों के लिए भोजन मँगाया गया तो बवाल हो गया। बवाल इस बात का कि भोजन के पैकेट पर नमो क्यों लिखा था? मीडिया के सवालों के बीच जब हक़ीक़त सामने आयी तो मामला बिलकुल साफ़ हुआ कि नमो रेस्तराँ से भोजन मँगाया गया था इसलिए पैकेट पर रेस्तराँ का नाम था।

उसकी कड़ी में उत्तरप्रदेश पुलिस में सिपाही पद पर कार्यरत जितेंद्र यादव ने एक तस्वीर साझा की है। इसमें यूपी पुलिस के सिपाही ज़मीन पर बैठकर खाना खाते हुए देखे जा सकते हैं। इस हालात और दर्द को साझा करके यह दर्शाने की कोशिश की गयी है कि कैसे ड्यूटी के वक़्त पुलिस को कई कठिनाइयों से गुज़रना पड़ता है।

इस मामले में सबकी चुप्पी सवाल तो खड़ा करती है कि नमो रेस्तराँ से भोजन पर बवाल लेकिन इस तस्वीर पर चुप्पी क्यों?