वेदी तेरी पर माँ, हम क्या शीश नवाएँ?

तेरे चरणों पर माँ, हम क्या फूल चढ़ाएँ?

हाथों में है खड्ग हमारे, लौह-मुकुट है सिर पर-

पूजा को ठहरें या समर-क्षेत्र को जाएँ?

मन्दिर तेरे में माँ, हम क्या दीप जगाएँ?

कैसे तेरी प्रतिमा की हम ज्योति बढ़ाएँ?

शत्रु रक्त की प्यासी है यह ढाल हमारी दीपक-

आरति को ठहरें या रण-प्रांगण में जाएँ?

दिल्ली जेल, सितम्बर, 1931

गर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: 

editor_team@literatureinindia.com

समाचार: 

news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: 

adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें