भारत की मूल समस्या यह है कि यहां शासक और जनता के बीच कभी कोई तारतम्य नहीं रहा है

डॉ. राममनोहर लोहिया ने कहा था कि भारत की मूल समस्या यह है कि यहां शासक और जनता के बीच कभी कोई तारतम्य नहीं रहा है. यह हिंदू शासकों के लिए भी उतना ही सही है, जितना कि मुस्ल‍िम शासकों के लिए. अतीत के लिए भी, आज के लिए भी. ग़ौरी, गज़नवी, चंगीज़, तैमूर, दुर्रानी, … पढ़ना जारी रखें भारत की मूल समस्या यह है कि यहां शासक और जनता के बीच कभी कोई तारतम्य नहीं रहा है

Advertisements

फोटो में दिख रहा लड़का रांची का है…पढ़िए पूरा मामला

फोटो में दिख रहा लड़का रांची का है। इलाहाबाद में एसएससी की तैयारी करता है। अपना खर्चा निकालने के लिए लक्ष्मी टाकीज के पास चिकन रोस्ट की दुकान लगाता है। दुकान की आमदनी से अपनी पढ़ाई जारी रखने के साथ-साथ घर वालों को भी पैसे भेजता है। घर वालों को इस बारे में कुछ नहीं … पढ़ना जारी रखें फोटो में दिख रहा लड़का रांची का है…पढ़िए पूरा मामला

बड़ा महत्व है – रमा सिंह

कार्यालय में क्लर्क का, व्यवसाय में संपर्क का जीवन में वर्क का, रेखाओं में कर्क का बड़ा ही महत्व है   इलेक्शन में वोट का, गिरने में चोट का ड्रेस में कोट का, पॉकेट में नोट का बड़ा ही महत्व है   कवियों में बिहारी का, कथा में तिवारी का सभा में दरबारी का, भोजन … पढ़ना जारी रखें बड़ा महत्व है – रमा सिंह

कृष्णवट : सुशोभित सक्तावत

"गीता" में श्रीकृष्ण ने स्वयं को "अश्वत्थ वृक्ष" कहा है। "समस्त वृक्षों में मैं "अश्वत्थ" हूं।" "अश्वत्थ" यानी पीपल का पेड़। किंतु श्रीकृष्ण केवल अश्वत्थ ही नहीं हैं, वे स्वयं में एक "महावन" हैं! ब्रज में एक नहीं दो नहीं सोलह वन हैं! और वनखंडियां तो अगणित! मैं उसी ब्रज की भूमि में "वंशीवट" की … पढ़ना जारी रखें कृष्णवट : सुशोभित सक्तावत

क्या “अयोध्या”, क्या “अमरनाथ”

अमरनाथ यात्रा के प्रति कश्मीरियों का द्वेष अयोध्या के प्रति मुस्ल‍िमों के द्वेष से कम नहीं है, ऐसी धारणा अगर बन गई है, तो यह निर्मूल नहीं है। अमरनाथ इधर पिछले नौ सालों से कश्मीर का "अयोध्या" जो बन गया है। और यही कारण है कि अमरनाथ यात्र‍ियों पर हमला करने के अनेक मायने होते … पढ़ना जारी रखें क्या “अयोध्या”, क्या “अमरनाथ”

अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमला कर कुछ लोगों को मार डालते हैं तो कम से कम मुझे आश्चर्य नहीं होता

जिस कश्मीर में मानवाधिकार के नाम पर ज्यूडिशियली खुद संज्ञान ले कर एक पत्थरबाज आतंकी को दस लाख का मुआवजा देने की सरकार को सिफ़ारिश करती हो उस कश्मीर में अगर अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमला कर कुछ लोगों को मार डालते हैं तो कम से कम मुझे आश्चर्य नहीं होता । जिस देश में … पढ़ना जारी रखें अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमला कर कुछ लोगों को मार डालते हैं तो कम से कम मुझे आश्चर्य नहीं होता

लिबरल कम्‍युनिस्‍ट व्‍यावहारिक होते हैं

  "लिबरल कम्‍युनिस्‍ट व्‍यावहारिक होते हैं। उन्‍हें सैद्धांतिकी वाले तरीके से नफ़रत होती है। उनके लिहाज से आज कोई एकल शोषित वर्ग नहीं है। केवल कुछ ठोस समस्‍याएं हैं जिन्‍हें हल किया जाना है- अफ्रीका में भुखमरी, मुस्लिम औरतों की बदहाली, धार्मिक कट्टरपंथी हिंसा। जब कभी अफ्रीका में मानवीय संकट होता है- और लिबरल कम्‍युनिस्‍ट … पढ़ना जारी रखें लिबरल कम्‍युनिस्‍ट व्‍यावहारिक होते हैं