आज़मगढ़ में हर पार्टी के नेताओं पर चला प्रशासन का चाबुक

Image result for पालिका चुनाव आजमगढ़

नामांकन के अंतिम दिन प्रत्याशियों ने अपनी ताकत का एहसास कराते हुए गाजे-बाजे के साथ जुलूस निकालकर नामांकन किया। प्रत्याशियों के जुलूस के चलते नगर क्षेत्र में लोगों को जाम की समस्या से जूझना पड़ा। अंतिम दिन नामांकन की स्थिति पर गौर करें तो अध्यक्ष पद के लिए 49 और सदस्य पद के लिए कुल 159 नामांकन दाखिल हुए।

विगत आठ दिनों से चल रहे नामांकन का कार्य सकुशल संपन्न हो गया। नामांकन के अंतिम दिन प्रत्याशियों द्वारा जमकर नामांकन किया गया। हालांकि कंट्रोल रूम द्वारा अब तक हुए नामांकन का पूरा ब्यौरा तो नहीं दिया जा सका लेकिन अंतिम दिन कुल 208 नामांकन दाखिल हुए हुए। जिसमें अध्यक्ष पद पर 49 और सदस्य पद पर 159 नामांकन दाखिल हुए। आजमगढ़ नगरपालिका अध्यक्ष पद के लिए अंतिम दिन 11 और मुबारकपुर नगरपालिका के लिए तीन नामांकन दाखिल हुए।

वहीं नगर पंचायतों की स्थिति देखें तो मेंहनगर में तीन, फूलपुर में चार, माहुल में छह, अजमतगढ़ में एक, जीयनपुर में पांच, महराजगंज में एक, बिलरियागंज में तीन, लालगंज में दो, अतरौलिया में तीन, निजामाबाद में तीन और सरायमीर में तीन नामांकन दाखिल हुए।

नगरपालिका और नंगर पंचायतों के वार्ड सदस्य पदों के लिए अंतिम दिन हुए नामांकन की स्थिति देखें तो आजमगढ़ नपा के लिए 53, मुबारकपुर नपा के लिए 23, नगर पंचायत बिलरियागंज के लिए दो, महराजगंज में एक, अजमतगढ़ में 12, जीयनपुर में 17, फूलपुर में 13, माहुल में सात, निजामाबाद में पांच, सरायमीर में 12, अतरौलिया में दो, कटघर लालगंज में आठ और मेंहनगर में चार नामांकन दाखिल हुए।

नगर पालिका आजमगढ़ में अध्यक्ष पद के लिए अंतिम दिन अभिषेक जायसवाल दीनू, सपा से पद्माकर लाल वर्मा उर्फ घुट्टूर सेठ, बसपा से सुधीर सिंह उर्फ पपलू सिंह, अजय कुमार गौतम, भाजपा से अजय सिंह, कांग्रेस से रमेश चंद्र शर्मा, कुंवर परीक्षित सिंह, सुजीत भूषण, आफताब, शीला श्रीवास्तव और मुहम्मद अफजल ने नामांकन किया। मुबारकपुर नपा से अध्यक्ष पद के लिए सपा की करीमुन्निशा, भाजपा से पूनम और कांग्रेस से शाहिना ने नामांकन दाखिल किया।

वहीं नगरपंचायतों में अध्यक्ष पद के लिए मेंहनगर से रणजीत सिंह, भाजपा से रणवीर सिंह और अतुल सिंह, फूलपुर नगरपंचायत से सुरेश मौर्य, गुलइची देवी, रजनीश प्रजापति और मोती लाल सेठ, माहुल नगर पंचायत से ओमप्रकाश, सूबेदार, हरिश्चंद्र, भाजपा से सत्यभामा यादव, बसपा से शौकत अली और कांग्रेस से अबूशाद, अजमतगढृ नगर पंचायत से राधेश्याम कन्नौजिया, जीयनपुर नगर पंचायत से नंदलाल यादव, आनंद प्रकाश तिवारी, कांग्रेस से शरद चंद्र मिश्रा, मुन्ना, और भाजपा से तारा चंद्र जायसवाल, महराजगंज नगर पंचायत से कांग्रेस से अमरनाथ विश्वकर्मा, बिलरियागंज से कांग्रेस के शमीम, सपा के आरिफ और माज, लालगंज नगर पंचायत से बसपा के गुलाब कन्नौजिया और उमाशंकर, अतरौलिया नगर पंचायत से बसपा के रामचंद्र जायसवाल, कांग्रेस के राधे निषाद और विजय, निजामाबाद से भाजपा से साधना, प्रेमा और कुसुम, सरायमीर नगर पंचायत से भाजपा की प्रभा, कांग्रेस की कमर आएशा और दिलबरी ने नामांकन किया।

व्हील चेयर पर बैठ नामांकन करने पहुंची शीला

जहां सारे प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ हाथ जोड़े हुए नामांकन करने पहुंच रहे थे। वहीं पूर्व पालिकाध्यक्ष और बसपा की बागी शीला श्रीवास्तव पैर में प्लास्टर लगाए व्हील चेयर पर बैठकर नामांकन करने के लिए पहुंची। सबके बीच उनका इस तरह से नामांकन करने पहुुंचना चर्चा का केंद्र बना हुआ था।

अहरौला (आजमगढ़) :

स्थानीय निकाय चुनाव के दौरान सोमवार को नामांकन की अंतिम तिथि के दिन आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप में स्थानीय थाने की पुलिस ने पूर्व विधायक सहित सौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। नवगठित माहुल नगर पंचायत में निकाय चुनाव को लेकर सोमवार को सपा प्रत्याशी देवीप्रसाद यादव का नामांकन जुलूस निकला था। जुलूस का नेतृत्व फूलपुर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक श्यामबहादुर यादव कर रहे थे। बगैर अनुमति के जुलूस निकालने पर अहरौला थाने में लोक प्रतिनिधित्व एक्ट के अंतर्गत पूर्व विधायक श्यामबहादुर यादव एवं सपा प्रत्याशी देवीप्रसाद यादव सहित सौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

नगर पालिका परिषद आजमगढ़:

नगर पालिका परिषद आजमगढ़ के अध्यक्ष पद के लिए सोमवार को कलेक्ट्रेट में नामांकन प्रक्रिया का अंतिम दिन था। जिले में धारा 144 लागू होने के बाद भी गाजे-बाजे के साथ कई वाहनों के काफिले के साथ जुलूस निकाला गया। इसे पुलिस प्रशासन ने संज्ञान में लिया और भाजपा, सपा व दो निर्दल प्रत्याशी सहित लगभग 800 समर्थकों के खिलाफ देर शाम शहर कोतवाली में आचार संहिता के उल्लंघन में रिपोर्ट दर्ज की गई।

शहर कोतवाल योगेंद्र बहादुर ¨सह ने बताया कि नामांकन प्रक्रिया के दौरान भाजपा उम्मीदवार अजय ¨सह, सपा उम्मीदवार पद्माकर लाल वर्मा उर्फ घुट्टुर सेठ, निर्दल उम्मीदवार अभिषेक जायसवाल दीनू व पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष शीला श्रीवास्तव द्वारा बिना अनुमति कई वाहनों के साथ जुलूस निकाला गया। इस दौरान नारेबाजी भी की गई।

दीदारगंज:

दीदारगंज थाने की पुलिस ने रविवार को दिन में सड़क हादसे में मृत दंपती के शव को सड़क पर रखकर क्षेत्रीय विधायक के नेतृत्व में जाम लगाने वालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। इस मामले में दीदारगंज क्षेत्र के विधायक व पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर सहित 11 नामजद व 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की है।

अहरौला थाना क्षेत्र के कालीमठ के समीप शनिवार की शाम ट्रक की चपेट में आ जाने से बाइक सवार दंपती की मौत हो गई। हादसे के वक्त मृतक रमेश राजभर अपनी पत्नी पुष्पा के साथ अहरौला क्षेत्र स्थित ससुराल से वापस अपने गांव सिसवारा थाना क्षेत्र दीदारगंज लौट रहा था। रविवार की सुबह मृत दंपती के परिजनों को सरकारी मदद की मांग को लेकर ग्रामीणों ने क्षेत्रीय विधायक व पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर के नेतृत्व में सिसवारा मोड़ के पास बरदह-अंबारी मार्ग अवरुद्ध कर दिया। मौके पर पहुंचे एसडीएम मार्टीनगंज व सीओ फूलपुर के समझाने-बुझाने पर दोपहर करीब 12 बजे जाम समाप्त हुआ। इसके बाद दोनों शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे गए। इस मामले में थानाध्यक्ष दीदारगंज दीनानाथ पांडेय की तहरीर पर स्थानीय थाने में क्षेत्रीय विधायक सहित 11 नामजद व 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

Advertisements

आर्थिक सहायता की मांग को लेकर लाश दीदारगंज थाने के सिसवारा मोड़ पर रखकर जाम

Image result for accident

अंबारी/मार्टीनगंज। बूढनपुर-अंबारी मुख्य मार्ग पर स्थित अहरौला थाना क्षेत्र के कालीमठ के पास शनिवार की शाम अनियंत्रित ट्रक से कुचलकर बाइक सवार दंपति की मौत हो गई। बाइक चलाते समय युवक ने हेलमेट नहीं पहना था।

परिवार के लोग लाश लेकर माहुल पुलिस चौकी पहुंचे। इसके बाद दोनों की लाश लेकर घर चले गए। रविवार की सुबह साढ़े आठ बजे आर्थिक सहायता की मांग को लेकर लाश दीदारगंज थाने के सिसवारा मोड़ पर रखकर जाम लगा दिया।

जाम लगने की सूचना पर एसडीएम मार्टीनगंज पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और आश्वासन देकर साढ़े तीन घंटे बाद जाम समाप्त करा दिया। इस दौरान दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लग गई थी।

मृतकों में रमेश राजभर (35) पुत्र दलसिंगार और उसकी पत्नी पुष्पा देवी (32) शामिल हैं। रमेश दीदारगंज थाना क्षेत्र के सिसवारा गांव का निवासी था। दो भाइयों में बड़ा रमेश घर पर रहता था।

उसकी पत्नी पुष्पा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता थी। वह दो बच्चों का पिता था। उसका बेटा दिव्यांश (5) और बेटी महक (3) है। पुष्पा का मायका अहरौला थाना क्षेत्र के माहुल चकलतीफपुर गांव में था। रमेश शनिवार को अपनी पत्नी को लेकर ससुराल गया था। शाम साढ़े तीन बजे घर लौट रहा था।

घर के लोग रमेश और पुष्पा की लाश लेकर माहुल पुलिस चौकी पर गए, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं की। जिससे नाराज रविवार की सुबह साढ़े आठ बजे परिवार के लोग दोनों की लाश लेकर दीदारगंज थाने के सिसवारा मोड़ पहुंचे और सड़क जाम कर दिया।

सूचना मिलने पर एसडीएम मार्टीनगंज, सीओ फूलपुर, एसओ दीदारगंज आदि पहुंचे। एसडीएम मार्टीनगंज आशाराम यादव के आश्वासन पर साढ़े तीन घंटे बाद दोपहर के बारह बजे के करीब जाम समाप्त हो गया। सीओ फूलपुर संतोष सिंह ने बताया कि लाश पीएम को भेजवा दी गई। घटना के संबंध में अहरौला थाने में रिपोर्ट दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

जागा सिंचाई विभाग, पहुंचे एई, बोल्डर डालने के निर्देश

जागा ¨सचाई विभाग, पहुंचे एई, बोल्डर डालने के निर्देश

सूरजपुर (मऊ) :

मधुबन तहसील क्षेत्र के रसूलपुर मोर्चा व सूरजपुर गांव में घाघरा की कटान से बरपते कहर की खबर आखिरकार सिंचाई विभाग के कानों तक पहुंच ही गई। 16वें दिन अधीक्षण अभियंता बलिया अजय कुमार राय के निर्देश पर अवर अभियंता अशोक सिंह को कटान का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने दूरभाष पर अधीक्षण अभियंता को कटान की भयावहता की जानकारी दी। इस पर अधीक्षण अभियंता ने अधिशासी अभियंता वीरेंद्र पासवान को कटान स्थल पर लोहे की जाली में बोल्डर बांधकर गिराने और बचाव कार्य अतिशीघ्र किए जाने का निर्देश दिया।

सोमवार को घाघरा की लहरों द्वारा गांवों में कटान का कहर लगातार जारी रहा। नदी की लहरें बदस्तूर उत्तर से दक्षिणी छोर की ओर कटान करती हुई आबादी व उपासना स्थलों की तरफ 13 मीटर की गहरी खाई बनाती हुई लगातार कटान कर रही है। अब लहरें आबादी व उपासना स्थलों के काफी नजदीक तक पहुंच गई हैं। तटवर्ती इलाकों में बसे लोग काफी दहशत में जीवन यापन कर रहे हैं।

सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता बलिया अजय कुमार राय कटान पर लगातार नजर रखे हुए हैं।उनके निर्देश अवर अभियंता अशोक सिंह ने कटान क्षेत्र का दौरा किया। अवर अभियंता ने अधीक्षण अभियंता अजय कुमार राय व अधिशासी अभियंता वीरेंद्र पासवान को दूरभाष पर कटान की जानकारी दी। उन्हें जानकी मंदिर के पास हो रही भयावह कटान से अवगत कराया। इस पर अधीक्षण अभियंता बलिया अजय कुमार राय ने अधिशासी अभियंता को निर्देश दिया कि तत्काल कटान रोकने हेतु लोहे की जाली में बोल्डर डालकर नदी से हो रही कटान को रोका जाय।

कटान के चलते रसूलपुर मोर्चा गांव के पृथ्वी यादव, सुखनंदन यादव, सुखई यादव, रामनरायन यादव, बलिराम यादव, रामाश्रय यादव, जगधारी यादव, अवधेश यादव, बाढू यादव, मुन्ना यादव, गिरिजा यादव आदि लोगों का घर कभी भी घाघरा नदी अपनी गोद में समाहित कर सकती है। भीषण कटान के चलते रसूलपुर मोर्चा स्थित डीह बाबा का स्थान भी खतरे में है।

वहीं सूरजपुर गांव में भी घाघरा नदी में पानी के तेजी के साथ बढ़ाव व बहाव के चलते घाघरा नदी उत्तर के तरफ से दक्षिणी छोर पर 13 मीटर गहरी खाई बनती हुई कटान करती हुई आबादी व उपासना स्थल के पास तक पहुंच गई है। इससे नाथ बाबा मंदिर, राम जानकी मंदिर, प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय बैदापुर, सूरजपुर सहित रामप्रसाद गोंड, शिवप्रसाद, रामदुलारे, संतोष सहित दो दर्जन से अधिक मकान भयंकर कटान के चलते खतरे में हैं।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

प्रदेश नेतृत्व के कहने पर ही खत्म होगा आंदोलन

प्रदेश नेतृत्व के कहने पर ही खत्म होगा आंदोलन

संवाददाता, मऊ :

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने सोमवार को 16वें दिन भी अपना आंदोलन जारी रखा और एलान किया कि सरकार चाहे कुछ भी कर ले लेकिन अब लड़ाई आर-पार की होकर रहेगी। जब तक प्रदेश नेतृत्व नहीं कहेगा तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

बाल विकास परियोजना शहर भीटी में हेमंती प्रजापति की अध्यक्षता में कलमबंद अनिश्चितकालीन हड़ताल के दौरान जिला मंत्री बीना राय ने कहा कि हमारी हड़ताल महिला आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ के आह्वान पर शुरू की गई है और उसी के आह्वान पर समाप्त होगी। इस दौरान अफसाना, संगीता, शशिकला, सुनीता, शगुफ्ता, निकहत, संध्या, अंजू, इशरत रिसालत, कौशल्या, शारदा, सुनीता, ऊषा आदि उपस्थित थीं।

बाल विकास परियोजना कोपागंज में अध्यक्ष किरण सिंह के नेतृत्व में कलमबंद अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रही। यहां वंदना सिंह, सत्यभामा यादव, सुशीला सिंह, श्वेता, पार्वती, निर्मला, प्रेम बालिका आदि उपस्थित रहीं।

बाल विकास परियोजना परदहां में भी काम बंद कलमबंद अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रही। ब्लाक अध्यक्ष आशा यादव ने कहा कि हम महिलाओं की आवाज को शासन और प्रशासन द्वारा दबाया जा रहा है। हम महिलाएं जरूर हैं पर कमजोर नहीं हैं।

जब तक राज्य कर्मचारी का दर्जा नहीं मिल जाएगा तब तक हम काम बंद कलमबंद अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहेंगे। इस दौरान पूनम लता, अंचल, सुधा पांडेय, ममता, इंदु देवी, सीता सिंह, रेनू सिंह, सरिता सिंह, संध्या यादव आदि उपस्थित रहीं।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

स्वतंत्रता संग्राम के दस्तावेज थे पं. रामविलास

Image result for pandit ramvilas mau

जासं, घोसी (मऊ) :

मऊ एवं आजमगढ़ संयुक्त जनपद के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों में पं. रामविलास पांडेय का नाम बेहद अदब से लिया जाता है। आज से ठीक छह वर्ष पूर्व अंतिम सांस लेने वाले पं. रामविलास पांडेय बचपन से ही स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़े। मां-पिता के इस इकलौते पुत्र ने भारत मां को ही जननी का दर्जा देना श्रेयस्कर समझा। अंग्रेज जेलर पर हाथ छोड़ने वाला यह सपूत हुकूमत के दमन चक्र का हर दंश भोगा।

आजाद भारत में मंत्री बनने के बावजूद ईमानदारी एवं बेबाक वाणी की छवि को जीवंत रखा। आदर्श राजनीति को अंगीकार करने वाले ईमानदारी की प्रतिमूर्ति पं. रामविलास पांडेय एक लेखक, विचारक एवं राजनेता होने के साथ ही मंच से सच कहने से गुरेज नहीं करते थे।

आजादी की जंग के पुरोधा रहे पूर्व मंत्री पं. रामविलास पांडेय 01 जुलाई 1918 को इटौरा बुजुर्ग में पैदा हुए। हालांकि उनकी कर्मस्थली घोसी रही है। परतंत्र भारत में राजनीतिक गुरु सहदेव राम के सानिध्य में आजादी का बिगुल बजाया तो 17 मई 1940 को छह माह की कड़ी कैद मिली।

फरवरी 1943 में 12 वर्ष की कैद (हालांकि 46 में रिहा) मिली। 15 अगस्त 42 को मधुबन थाना के घेराव के बाद तो मानों आजादी के इस परिन्दे ने इंदारा, खुरहट, एवं खुंरासो कांड सहित अन्य कई घटनाओं को अंजाम दिया। 1948 में जिला परिषद के प्रथम बार सदस्य बने। 18 वर्ष तक इस पद पर रहे।

1962 में दो वर्ष हेतु विधान परिषद सदस्य बने। 1969 में विधान सभा क्षेत्र घोसी का प्रतिनिधित्व किया। इस दौरान चंद्रभान गुप्त के मुख्यमंत्रित्व में मंत्री रहे। प्रदेश एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य सहित जीवन के अंतिम क्षण तक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी संगठन के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष रहे।

19 दिसंबर 10 को एआइसीसी की बैठक में इनकी बेबाक टिप्पणी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को झंकृत कर दिया था। उनकी पुण्यतिथि पर बुधवार की सुबह दस बजे से श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई है। स्थानीय नगर में उनके आवास पर आयोजित होनी वाली इस सभा की जानकारी उनके पुत्र रमेश चंद्र पांडेय ने दी है।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

बीएचयू में हॉस्टल के लिए चक्कर काट रहीं दो दर्जन छात्राएं

बीएचयू (BHU) में हॉस्टल न मिल पाने की वजह से छात्राएं परेशान हैं।

Image result for bhu girls hostel
ऐसी दो दर्जन से ज्यादा छात्राएं हैं, जो विभागों से संकाय तक के चक्कर लगा रही हैं। परेशान छात्राओं ने संकायाध्यक्ष को पत्र लिखकर छात्रावास में कमरे आवंटित कराने की गुहार लगाई है। उधर, संकायाध्यक्ष ने इस मामले के निस्तारण के लिए चीफ प्राक्टर प्रो. रोयाना सिंह से बात कर छात्राओं की सूची सौंपी है।

बीएचयू परिसर (BHU Campus) में छात्राओं के सभी हॉस्टल (BHU Girl’s Hostel) आवंटित हो चुके हैं। सूत्रों की माने तो कुछ छात्रावासों में दो-चार कमरे खाली हैं, जो विशेषाधिकार के तहत आवंटित किए जाते हैं। वहीं, छात्रावास के लिए जो छात्राएं परेशान हैं, उनमें 50 फीसदी छात्राएं समाज विज्ञान संकाय की है।

इन छात्राओं ने समाज विज्ञान संकायाध्यक्ष को पत्र लिखकर कमरा दिलाने की मांग की है। छात्राओं के पत्र के आधार पर संकाय की ओर से चीफ प्राक्टर कार्यालय को सूची भेजी गई है।

अब त्रिवेणी, महिला महाविद्यालय सहित छात्रावासों में खाली कमरों की सूची तैयार कराई जा रही है। इसके बाद अधिकारियों की अनुमति से छात्राओं को कमरे आवंटित किए जा सकते हैं।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

बस में की छेड़खानी, छात्रा और उसकी सहेलियों ने यूं सिखाया सबक

Image result for bus molest

बस में बैठकर कोचिंग जाने वाली छात्रा को एक युवक ने छेड़ दिया।

छात्रा चुप रही लेकिन जैसे ही बस उसके उसके स्टैंड पर रुकी और युवक नीचे उतरने लगा तो छात्रा ने उस पर हमला बोल दिया। छात्रा की सहलियों ने भी उसका साथ दिया और युवक को पकड़कर पिटाई शुरू कर दी।
इसके बाद उसे छात्राएं कोतवाली ले जाकर पुलिस को सौंप दिया। मामला जौनपुर जिले का है। छात्रा का आरोप है कि युवक रोज बस में उसके साथ छेड़छाड़ करता था। छात्रा की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया। मछली शहर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव की छात्रा मड़ियाहूं में कोचिंग सेंटर में पढ़ाई करती है।

वह रोज बस से कोचिंग आती-जाती है। छात्रा के मुताबिक उसे पिछले कुछ दिनों से साहो पट्टी गांव का एक युवक बस में छेड़ता था। शनिवार को सुबह वह बस से मडियाहूं आ रही थी। रास्ते में युवक उसी बस में सवार हुआ और छेड़खानी करने लगा। मड़ियाहूं में जैसे ही बस पड़ाव पर रुकी और युवक नीचे उतरा, उसी दौरान छात्रा ने सहेलियों के साथ युवक को पकड़कर पिटाई शुरू कर दी।

इसके बाद उसे छात्राएं कोतवाली ले जाकर पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने छात्रा की तहरीर पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

निकाय चुनावः वाराणसी में कांग्रेस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री की पुत्रवधू को बनाया मेयर प्रत्याशी

congress  declared mayor candidate for varanasi body election
शालिनी यादव PC: अमर उजाला

निकाय चुनाव को लेकर वाराणसी में कांग्रेस ने लंबी जद्दोजहद के बाद मेयर पद के लिए अपने पत्ते खोल दिए हैं।

कांग्रेस ने शालिनी यादव के नाम पर मुहर लगा दी है। शालिनी यादव राज्य सभा के पूर्व उप सभापति श्यामलाल यादव की छोटी पुत्रवधू हैं। हालांकि पहली सूची के बाद पार्टी में उठे बगावती सुर के चलते पार्षद प्रत्याशियों की घोषणा अब तक नहीं की गई है। नामांकन में महज तीन दिन शेष हैं।

ऐसे में संभावित पार्षद प्रत्याशी भी ऊहापोह में हैं और जनसंपर्क से मुंह मोड़ रखा है। जिला स्तर पर 37 प्रत्याशियों की सूची जारी होने के बाद मचे घमासान के चलते पार्टी फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। सूत्रों का कहना है कि पार्षदों की सूची के लिए प्रदेश स्तर पर मंथन जारी है।

जिला स्तर से जो सूची भेजी गई है उसमें भी फेरबदल की संभावना जताई जा रही है। जिला चुनाव संचालन समिति ने चार दिन की मशक्कत के बाद मेयर सहित वार्ड प्रत्याशियों की संभावित सूची प्रदेश समिति को भेज दी थी।

पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्र शुक्रवार की देर शाम लखनऊ पहुंचे थे। उसके बाद शनिवार की देर शाम मेयर पद के लिए शालिनी यादव को उम्मीदवार घोषित कर दिया गया।

जिला स्तर पर 37 प्रत्याशियों की सूची 30 अक्तूबर को जारी की गई। इसके जारी होते ही सबसे पहले रामापुरा वार्ड के दावेदार व पुराने कार्यकर्ता प्रमोद वर्मा ने 41 समर्थकों संग पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा  दे दिया था।

इसे लेकर पार्टी के अंदर घमासान मचा ही था कि बागहाड़ा से घोषित प्रत्याशी ने शपथ पत्र के माध्यम से यह कहकर पार्टी की किरकिरी करा दी कि वह तो समाजवादी पार्टी का सदस्य है। फिलहाल मेयर पद के प्रत्याशी की घोषणा के बाद पार्टी हाईकमान अब पार्षदों की सूची जारी करने पर विचार कर रहा है।

मेयर पद की कांग्रेस उम्मीदवार शालिनी सात नवंबर को नामांकन करेंगी। यह जानकारी स्व. श्यामलाल यादव के सबसे छोटे पुत्र और शालिनी के पति अरुण यादव ने दी। शालिनी यादव मूलत: गाजीपुर की रहने वाली हैं। अंग्रेजी से बीए ऑनर्स के साथ उन्होंने लखनऊ से फैशन डिजाइनिंग में डिप्लोमा किया है। फि लहाल वह एक मीडिया हाउस से जुड़ी हैं। कांग्रेस में इस परिवार की अच्छी साख है। 

बसपा की दूसरी सूची अटकी, पार्षद के दावेदारों में बेचैनी

नगर निकाय चुनाव के लिए बसपा की पार्षद प्रत्याशियों की दूसरी सूची अटक गई है। जिन दावेदारों ने टिकट के लिए आवेदन किया था, पार्टी अभी उन पर विचार विमर्श कर रही है। सात नवंबर नामांकन की आखिरी तिथि है, ऐसे में दूसरी सूची जारी न होने से दावेदारों में बेचैनी बढ़ गई है। वहीं, मेयर, नगर पालिका और नगर पंचायत अध्यक्ष के लिए भी अभी मंथन चल रहा है।

बसपा ने तीन दिन पहले पार्षद पद के 51 प्रत्याशियों की सूची जारी की थी। अभी 39 पदों के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी होनी है। वहीं, मेयर और नगर पालिका रामनगर तथा नगर पंचायत गंगापुर के अध्यक्ष पद के प्रत्याशी भी अभी घोषित नहीं किए गए।

सूत्रों का कहना है कि पार्टी अभी दावेदारों के कद और सामाजिक प्रभाव आदि के बाद में विचार कर रही है। विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद पार्टी नगर निकाय चुनाव के जरिए संगठन को मजबूत करना चाहती है।

जनता के बीच अपनी पैठ बनाकर पार्टी का जनाधार बढ़ाना प्रमुख लक्ष्य है। पार्टी के लोगों का कहना है कि पार्षदों की दूसरी सूची जल्द ही जारी होगी। वहीं, बसपा सुप्रीमो की हरी झंडी मिलने के बाद मेयर और अध्यक्ष पद के प्रत्याशियों की घोषणा की जाएगी।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

एसओ संग अपराधी को देख बिफरी विधायक अलका राय, धरने पर बैठी

MLA alka rai sitdown strike in ghazipur
गाजीपुर (Ghazipur) के नोनहरा थाना क्षेत्र के कठवा मोड़ पुलिस चौकी गेट पर रविवार शाम को मुहम्मदाबाद  (Muhamdabad) विधायक अलका राय (Alka Rai) ने थानाध्यक्ष को एक अपराधी के साथ देखा तो वह अपनी गाड़ी से उतरकर चौकी के पास पहुंच गईं। उन्हें देखते ही थानाध्यक्ष ने अपराधी को भगा दिया।

इससे नाराज विधायक और उनके समर्थक थानाध्यक्ष के निलंबन और उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने तथा अपराधी को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर धरना पर बैठ गए। इसकी जानकारी होते ही एसपी ग्रामीण और सीओ तत्काल मौके पर पहुंच गए।

विधायक अलका राय रविवार की शाम साढ़े बजे रेवतीपुर से भ्रमण कर लौवाडीह एक कार्यक्रम में जा रही थी। उनकी गाड़ी नोनहरा थाना क्षेत्र के कठवामोड़ पुलिस चौकी के पास पहुंची तो उनकी नजर पुलिस चौकी के सामने खड़ी एक स्विफ्ट डिजायर कार के पास खड़े थानाध्यक्ष केपी सिंह पर पड़ी।

वह एक शातिर अपराधी के साथ बात कर रहे थे। यह देख विधायक गाड़ी से उतर गईं। उन्हें देख थानाध्यक्ष ने अपराधी को इशारा कर भगा दिया। यह देख विधायक नाराज हो गई और वह थानाध्यक्ष से उलझ गई। इसी बीच उनके समर्थकों ने कार में बैठे उसके चालक को पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया।

विधायक थानाध्यक्ष और चौकी प्रभारी के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज करने के साथ उसके निलंबित करने और अपराधी को गिरफ्तार करने की मांग पर चौकी परिसर में समर्थकों के साथ धरना पर बैठ गई। समर्थकों ने थानाध्यक्ष को भी अपने बीच बैठा दिया।

इसकी जानकारी होते ही एसपी ग्रामीण चंद्रप्रकाश शुक्ला और सीओ मौके पर पहुंच गए। घटना की जानकारी होते ही डीएम के बालाजी और एसपी सोमेन वर्मा भी मौके पर पहुंच गए। रात पौने नौ बजे तक विधायक अपनी मांग को लेकर धरना पर बैठी हुई थी और अधिकारी धरना समाप्त कराने में लगे हुए थे।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

मिर्जापुर में दरोगा पर हमला करने वाले विदेशी नागरिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मिर्जापुर में दरोगा पर हमला करने वाले जर्मनी के नागरिक (Attack on German Tourist) होल्गर इरीक के ‌खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। विदेशी पर यह मामला सोनभद्र रेलवे स्टेशन पर रेलवे इंजीनियर के साथ मारपीट करने को लेकर दर्ज किया गया है। हांलाकि रेलवे इंजीनियर के खिलाफ भी मामला दर्ज कर लिया गया है।

case against german citizen in grp station

रविवार की सुबह उच्चाधिकारियों एवं एलआईयू के पूछताछ के बाद दोनों को सोनभद्र भेज दिया गया। बताया गया कि सोनभद्र की घटना होने के चलते दोनों को वहां भेजा गया है।

वहां के एसपी के निर्देशन में खुफिया विभाग के अधिकारी विदेशी नागरिक से पूछताछ करने के बाद उसको जर्मनी भेजने की प्रक्रिया पूरी करेंगे। होल्गर इरीक से रविवार को जीआरपी सीओ मोनिका चड्ढा ने मिर्जापुर रेलवे स्टेशन पर पहुंच कर पूछताछ की। होल्गर वर्ष 2016 के दौरान भारत आया था।

इसी दौरान पांच जुलाई 2015 को हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में एक व्यक्ति से उसकी मारपीट हो गई थी। घटना के बाद कुल्लू थाने की पुलिस ने इसके विरुद्घ आईपीसी की धारा 324 के आरोप में मुकदमा दर्ज कर इसे गिरफ्तार हुए हिमाचल प्रदेश के सीजीएम कोर्ट में प्रस्तुत किया था।

कोर्ट ने इसका पासपोर्ट व वीजा जब्त करते हुए इसे जमानत दे दी थी। तभी से यह भारत में घूम रहा है। जनवरी 2017 में होल्गर के वीजा की अवधि समाप्त हो गई। पुलिस अधिकारियों की माने तो कोर्ट द्वारा वीजा पासपोर्ट जब्त करने के कारण वह अपने देश नहीं जा सका और यहीं पर रुका रहा।

रविवार को सोनभद्र रेलवे स्टेशन पर रेलवे इंजीनियर अमन कुमार से मारपीट की। इसके बाद मिर्जापुर में रेलवे स्टेशन पहुंचते ही विदेशी नागरिक भागने की कोशिश की। जिसे पकड़ने पर विदेशी नागरिक ने चौकी इंचार्ज को घायल कर दिया था।

दोनों द्वारा तहरीर देने पर अमन कुमार के विरुद्घ 323 की धारा तथा होल्गर के विरुद्घ 323 व 504 के तहत मामला पंजीकृत कर लिया गया। पुलिस की माने तो सोनभद्र एसपी द्वारा इसकी जांच कराकर उसे जर्मनी भेज दिया जाएगा।

इलाहाबाद के जीआरपी पुलिस अधीक्षक प्रतीप कुमार मिश्रा ने बताया कि  सोनभद्र रेलवे स्टेशन रेलवे के सेक्सन इंजीनियर अमन कुमार एवं जर्मनी निवासी होल्गर के बीच शनिवार को मारपीट हुआ था।

दोनों द्वारा एक दूसरे के विरुद्घ तहरीर देने पर दोनों के विरुद्घ मारपीट व गाली गलौज का मुकदमा पंजीकृत किया गया है। मामला सोनभद्र का होने के कारण विदेशी नागरिक को सोनभद्र पुलिस अधीक्षक के हवाले कर दिया गया है।

जर्मनी के नागरिक द्वारा रेलवे के एक कर्मचारी से मारपीट करने का मामला प्रकाश में आने पर जिले की खुफिया विभाग ने शनिवार की देर रात को ही भारतीय एवं जर्मनी दूतावास के अधिकारियों को मामले से अवगत दिया। जिसकी पूरी जानकारी लेने के बाद उसे जर्मनी पहुंचाने को कहा गया।

 

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

यूपी एटीएस ने मुंबई एयरपोर्ट से आजमगढ़ निवासी आईएस आतंकी को दबोचा, सकते में गांव वाले

UP ATS arrested islamic state suspect terrorist from mumbai airport

आतंकी संगठन आईएसआईएस (ISIS) के सक्रिय सदस्य अबूजैद को यूपी एटीएस (UP ATS) की टीम ने मुंबई हवाई अड्डे से गिरफ्तार कर लिया।

 

वह सऊदी से भारत लौट रहा था। अबू जैद के आतंकी गतिविधियों में शामिल होने की जानकारी मिलने पर उसके घर और गांव के लोग सकते में हैं।

लोगों का कहना है कि उसके इस आचरण के विषय में किसी को कोई जानकारी नहीं है। ना ही उसने गांव में अब तक किसी से विवाद या झगड़ा किया था। अबूजैद के गांव वालों को पुलिस की बातों पर भरोसा नहीं हो रहा।

आजमगढ़ (Azamgarh) के गंभीरपुर थाना क्षेत्र के छाऊ गांव निवासी अबूजैद पुत्र अलाउद्दीन तीन भाई और एक बहन में बड़ा था। उसके पिता अलाउद्दीन एक अच्छे इलेक्ट्रिशियन हैं। घर की माली हालत देख वर्ष 2009 में अबूजैद घर से सऊदी कमाने चला गया।

कुछ दिन बाद वह अपने दूसरे नंबर के भाई को भी सउदी बुला लिया। जो वहीं पर है। गांव वालों के मुताबिक अबुजैद सऊदी में एक टेलीफोन का केबल बिछाने वाली कंपनी में काम करता था।

वर्ष 2014 में अबूजैद घर लौटा तो परिवारवालों ने उसकी शादी गंभीरपुर थाना क्षेत्र के मोहम्मदपुर गांव की एक लड़की से कर दी। उसकी पत्नी घर पर ही है। जबकि वह पुन: सऊदी चला गया। सऊदी से भारत लौटते समय वह पकड़ा गया।

गांव में उसका परिवार अभी भी कच्चे मकान में रहता है। उधर आतंकी संगठन आईएसआईएस के सक्रिय सदस्य अबुजैद के गिरफ्तारी और उसका कनेक्शन आजमगढ़ से जुड़ने से जिला पुन: सूर्खियों में आ गया है। खुफिया एजेंसियां उसके अन्य नेटवर्क को खंगालने में जुट गई हैं।

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

साहित्य: editor_team@literatureinindia.com

समाचार: news@literatureinindia.com

जानकारी/सुझाव: adteam@literatureinindia.com

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें