किसानों की उम्मीदों पर आग की लौ, बिना संसाधनों के चल रहा दमकल विभाग

उत्तरप्रदेश के प्रत्येक ज़िले मे आगजनी से सुरक्षा हेतु वांछित संसाधनों की भारी कमी है। हालत ये है कि 40-50 लाख की आबादी वाले जिलों में सिर्फ़ 4-5 दमकल गाड़ियाँ हैं। यानी दस लाख की आबादी पर मात्र एक दमकल वाहन ऐसे में इस बात का अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि अगर कही भी आगज़नी की घटना होती है तो कितने प्रभावी ढंग से … पढ़ना जारी रखें किसानों की उम्मीदों पर आग की लौ, बिना संसाधनों के चल रहा दमकल विभाग

हम रेडिकल संतानें – डॉ. चित्रलेखा अंशु

रेडिकल होना जूझना है वस्तुस्थिति के विपरीत पेंडुलम होना भी है आधुनिकता और परम्परा के बीच। न तो पूर्णतः सम्मानित और न ही नकारने योग्य हम रेडिकल संतानें दुनियां से लड़ते-लड़ते खुद ही हो जाते हैं संक्रमित क्योंकि हमारे वाद को न कोई पचा पाता है न ही ठुकरा पाता है। हमारे तर्कपूर्ण विचार सामने वाले को करता है निरुत्तर तब स्त्री-पुरुष दोनों के शरीर … पढ़ना जारी रखें हम रेडिकल संतानें – डॉ. चित्रलेखा अंशु

‘नरेन्द्र कोहली’ के उपन्यासों में चित्रित नारी स्वतंत्रता की सार्वकालिक समस्याएँ

सुप्रसिद्ध उपन्यासकार श्री नरेन्द्र कोहली का जन्म 6 जनवरी 1940 ईस्वीं को स्यालकोट, पंजाब ( विभाजन पूर्व) में हुआ। यह नगर अब पाकिस्तान में है। नरेन्द्र कोहली एक दायित्ववान रचनाकार है। मानव जीवन में पाये जाने वाले अंतर्विरोध, विसंगतियों और सामाजिक विषमताओं को उन्होंने अपनी रचनाओं का विषय बनाया है। कोहली जी ने भारत की प्रसिद्ध पौराणिक कथाओं रामकथा, महाभारत कथा तथा भगवत गीता की कथा को आधार बनाकर इन्हें … पढ़ना जारी रखें ‘नरेन्द्र कोहली’ के उपन्यासों में चित्रित नारी स्वतंत्रता की सार्वकालिक समस्याएँ

प्रदूषण

आँख में चुभ रहा, आज प्रतिक्षण यहाँ जान लेकर रहेगा प्रदूषण यहाँ ! रोज बढ़ता हुआ वाहनों का धुआँ वायु में घुल रहा जहर भीषण यहाँ ! उजड़ते वन यहाँ जानता है ख़ुदा चीड़ का हो रहा रोज खण्डन यहाँ ! परत ओज़ोन का तीव्र अवक्षय यहाँ ऊष्मा लाँघता व्योम घर्षण यहाँ ! कोल की कालिमा उगलती चिमनियाँ नित्य बढ़ता हुआ उत्सर्जन यहाँ ! जानते … पढ़ना जारी रखें प्रदूषण

भारत की मूल समस्या यह है कि यहां शासक और जनता के बीच कभी कोई तारतम्य नहीं रहा है

डॉ. राममनोहर लोहिया ने कहा था कि भारत की मूल समस्या यह है कि यहां शासक और जनता के बीच कभी कोई तारतम्य नहीं रहा है. यह हिंदू शासकों के लिए भी उतना ही सही है, जितना कि मुस्ल‍िम शासकों के लिए. अतीत के लिए भी, आज के लिए भी. ग़ौरी, गज़नवी, चंगीज़, तैमूर, दुर्रानी, अब्दाली जैसे मुस्ल‍िम आक्रांता लूटखसोट की फ़िराक़ में थे. हिंदुस्तान … पढ़ना जारी रखें भारत की मूल समस्या यह है कि यहां शासक और जनता के बीच कभी कोई तारतम्य नहीं रहा है

फोटो में दिख रहा लड़का रांची का है…पढ़िए पूरा मामला

फोटो में दिख रहा लड़का रांची का है। इलाहाबाद में एसएससी की तैयारी करता है। अपना खर्चा निकालने के लिए लक्ष्मी टाकीज के पास चिकन रोस्ट की दुकान लगाता है। दुकान की आमदनी से अपनी पढ़ाई जारी रखने के साथ-साथ घर वालों को भी पैसे भेजता है। घर वालों को इस बारे में कुछ नहीं पता है। पहली बार जब उसने पैसे बचाकर १५ हज़ार … पढ़ना जारी रखें फोटो में दिख रहा लड़का रांची का है…पढ़िए पूरा मामला

वक़्त के साथ बदलते बाबाओं के अवतार

 प्राणेश तिवारी आज एक बाबा ने कहर ढा रखा है। रेप के आरोप में दोषी पाए गए हैं और उनके भक्त दो राज्यों में आपातकाल जैसे हालात लाने पर उतारू हैं। 25 से ज़्यादा जानें जा चुकी हैं और जगह-जगह आगजनी की खबरें सामने आ रही हैं। हर कोई सोच रहा है कि बाबा में ऐसा क्या है जो लोग जान लेने-देने पर उतारू हैं। … पढ़ना जारी रखें वक़्त के साथ बदलते बाबाओं के अवतार