गौरक्षा किसी एक वर्ग का कॉपीराइट नहीं है

गौरक्षा का अर्थ है गाय की रक्षा करना। गौरक्षा किसी एक वर्ग का कॉपीराइट नहीं है। ये हर भारतीय का मानवीय धर्म है। ऐसा नहीं है कि सिर्फ हिन्दू गौरक्षा कर सकता है और बाकी धर्मों के लोगों से इसका कोई सरोकार नहीं है। या सिर्फ बीजेपी गौरक्षा करेगी और बाकी राजनैतिक पार्टियां नहीं करेंगी।... Continue Reading →

Advertisements

अब तो हरि नाम लौ लागी |

सब जग को यह माखनचोर, नाम धर्यो बैरागी। कहं छोडी वह मोहन मुरली, कहं छोडि सब गोपी। मूंड मुंडाई डोरी कहं बांधी, माथे मोहन टोपी। मातु जसुमति माखन कारन, बांध्यो जाको पांव। स्याम किशोर भये नव गोरा, चैतन्य तांको नांव। पीताम्बर को भाव दिखावै, कटि कोपीन कसै। दास भक्त की दासी मीरा, रसना कृष्ण रटे॥... Continue Reading →

ब्रह्मा की पुत्री थीं सरस्वती, फिर क्यों बनीं ब्रह्मा की ही पत्नी और पैदा किया संसार का पहला मानव

हिन्दू धर्म से जुड़े पौराणिक इतिहास पर नजर डालें तो कई ऐसी कहानियां सुनने को मिल जाएंगी जिनसे अभी तक आमजन वाकिफ नहीं हैं। विस्तृत इतिहास होने की वजह से कुछ घटनाएं छूट जाती हैं तो कुछ नजरअंदाज कर दी जाती हैं। इन्हीं कहानियों में से एक हैं सृष्टि के रचयिता ब्रह्मा का अपनी ही... Continue Reading →

A WordPress.com Website.

Up ↑