है नमन उनको, कि जो यश-काय को अमरत्व देकर – कुमार विश्वास

है नमन उनको कि जो देह को अमरत्व देकर इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं  है नमन उनको कि जिनके सामने बौना हिमालय  जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं  पिता जिनके रक्त ने उज्जवल किया कुलवंश माथा  मां वही जो दूध से इस देश की रज तौल आई  बहन जिसने सावनों में हर लिया पतझर स्वयं ही  … पढ़ना जारी रखें है नमन उनको, कि जो यश-काय को अमरत्व देकर – कुमार विश्वास

प्रश्न किसी एक कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल के मध्य उत्पन्न तनाव का नहीं है।

प्रश्न किसी एक कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल के मध्य उत्पन्न तनाव का नहीं है। प्रश्न इस विराट लोकतंत्र के वैभवशाली इतिहास में सन्निहित विचारवान मस्तिष्कों के सम्मान की परंपरा के खण्डित होने का है। साहित्य और अध्यात्म का यद्यपि शासन-प्रशासन से प्रत्यक्ष संबंध गोचर नहीं होता है किंतु आदियुग से राजदरबारों में ऋषि वशिष्ठ, कृपाचार्य, विष्णुगुप्त चाणक्य, बिनोवा भावे, अब्दुर्रहीम ख़ानख़ाना, ज़ौक़, कालिदास, रामप्रसाद … पढ़ना जारी रखें प्रश्न किसी एक कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल के मध्य उत्पन्न तनाव का नहीं है।