आत्मा शब्द मुक्तबोध की कविता का बीज

gajanan-madhav-muktibodh_literature-in-india-dot-com

गजानन माधव मुक्तिबोध का 1964 में निधन हुआ और उसी वर्ष उनका पहला कविता संग्रह 'चाँद का मुँह टेढ़ा है' प्रकाशित हुआ जिसे वो अपनी आँखों देख नहीं पाए.   इन पचास वर्षों में हिन्दी कविता पर जिस एक महत्तर कवि का सर्वाधिक सृजनात्मक प्रभाव महसूस किया गया है, जो आगे की कवि पीढ़ी की … पढ़ना जारी रखें आत्मा शब्द मुक्तबोध की कविता का बीज

Advertisements