पेड़ की आत्‍मा – जगदीश शर्मा सहज

पेड़ की आत्‍मा - Jagdish Sharma Sahaj

मैं नश्वर था पर तुम्हारे हाथों मृत्यु का अधिकारी नहीं मैं बूढ़ा अवश्य था पर जनजीवन का अपकारी नहीं   मैं जब बच्चा था तुम पैदा ही नहीं हुए थे धरती पर न यह भीड़भाड़ थी, न शोर था, जीवन था प्रगति पर     मैं मौन रहकर तुम्हें देखता था निस्तब्ध सा खड़ा था … पढ़ना जारी रखें पेड़ की आत्‍मा – जगदीश शर्मा सहज

Advertisements