किसानों की उम्मीदों पर आग की लौ, बिना संसाधनों के चल रहा दमकल विभाग

उत्तरप्रदेश के प्रत्येक ज़िले मे आगजनी से सुरक्षा हेतु वांछित संसाधनों की भारी कमी है। हालत ये है कि 40-50 लाख की आबादी वाले जिलों में सिर्फ़ 4-5 दमकल गाड़ियाँ हैं। यानी दस लाख की आबादी पर मात्र एक दमकल वाहन ऐसे में इस बात का अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि अगर कही भी आगज़नी की घटना होती है तो कितने प्रभावी ढंग से … पढ़ना जारी रखें किसानों की उम्मीदों पर आग की लौ, बिना संसाधनों के चल रहा दमकल विभाग

डर के गठबंधन पर दूरगामी प्रश्नचिन्ह

लगभग दो दशक यानि 1993 के बाद, देश के दो सबसे बड़े क्षेत्रीय दल अपने अस्तित्व को बचाने की कवायद में फिर से एक हो चले हैं| बसपा के संस्थापक कांशीराम और मुलायम सिंह यादव की दोस्ती जब परवान चढ़ी थी तो उस वक़्त मुलायम सिंह यादव द्वारा अस्तित्व में आई समाजवादी पार्टी उत्तरप्रदेश की राजनीति में पाँव ज़माने की कोशिश में लगी हुई थी| … पढ़ना जारी रखें डर के गठबंधन पर दूरगामी प्रश्नचिन्ह

अगस्त हो या सितम्बर, बच्चे तो मरते ही हैं

गोरखपुर की त्रासदी को अभी बहुत ज्यादा दिन नहीं बीते हैं, घाव अभी भी हरा है, सांस अभी भी फूली है, दर्द अभी भी बेशुमार है; और साथ ही साथ यह भी याद है कि कैसे उपचार में हुई लापरवाही और कमिशनखोरी पर लगाम कसने में नाकाम सरकार की वजह से सैकड़ों बच्चे मार दिए गये| जी हाँ, वो बच्चे मरे नहीं, मारे गए…लेकिन योगी … पढ़ना जारी रखें अगस्त हो या सितम्बर, बच्चे तो मरते ही हैं